Bakri Aur Siyar: Lok-Katha (Chhattisgarh)

Folktales in Hindi – छत्तीसगढ़ी लोक कथाएँ

बकरी और सियार: छत्तीसगढ़ की लोक-कथा
एक बकरी थी। रोज़ सुबर जंगल चली जाती थी – सारा दिन जंगल में चरती और जैसे ही सूर्य विदा लेते इस धरती से, बकरी जंगल से निकल आती। रात के वक्त उस जंगल में रहना पसन्द नहीं था। रात को वह चैन की नींद सो जाना चाहती थी। जंगल में जंगली जानवर क्या उसे सोने देगें?
जंगल के पास उसने एक छोटा सा घर बनाया हुआ था। घर आकर वह आराम से सो जाती थी।

कुछ महीने बाद उसके चार बच्चे हुए। बच्चों का नाम उसने रखा आले, बाले, छुन्नु और मुन्नु। नन्हें-नन्हें बच्चे बकरी की ओर प्यार भरी निगाहों से देखते और माँ से लिपट कर सो जाते।
बकरी कुछ दिनों तक जंगल नहीं गई। आस-पास उसे जो पौधे दिखते, उसी से भूख मिटाकर घर चली जाती और बच्चों को प्यार करती।

एक दिन उसने देखा कि आसपास और कुछ भी नहीं है। अब तो फिर से जंगल में ही जाना पड़ेगा – क्या करे? एक सियार आस-पास घूमता रहता है। वह तो आले, बाले, छुन्नु और मुन्नु को नहीं छोड़ेगा। कैसे बच्चों की रक्षा करे? बकरी बहुत चिन्तित थी। बहुत सोचकर उसने एक टटिया बनाया और बच्चों से कहा – “आले, बाले, छुन्नु और मुन्नु, ये टटिया न खोलना, जब मैं आऊँ, आवाज़ दूँ, तभी ये टटिया खोलना” – सबने सर हिलाया और कहा – “हम टटिया न खोले, जब तक आप हमसे न बोले”।

बकरी अब निश्चिन्त होकर जंगल चरने के लिए जाने लगी। शाम को वापस आकर आवाज़ देती –

See also  Madame Husson’s "Rosier" by Guy de Maupassant

“आले टटिया खोल
बाले टटिया खोल
छुन्नु टटिया खोल
मुन्नु टटिया खोल”

आले, बाले, छुन्नु, मुन्नु दौड़कर दरवाज़ा खोल देते और माँ से लिपट जाते।

वह सियार तो आस-पास घुमता रहता था। उसने एक दिन एक पेड़ के पीछे खड़े होकर सब कुछ सुन लिया। तो ये बात है। बकरी जब बुलाती, तब ही बच्चे टटिया खोलते।

एक दिन बकरी जब जंगल चली गई, सियार ने इधर देखा और उधर देखा, और फिर पहुँच गया बकरी के घर के सामने। और फिर आवाज लगाई –

आले टटिया खोल
बाले टटिया खोल
छुन्नु टटिया खोल
मुन्नु टटिया खोल

आले, बाले, छुन्नु और मुन्नु ने एक दूसरे की ओर देखा –

“इतनी जल्दी आज माँ लौट आई” – चारों बड़ी खुशी-खुसी टटिया के पास आये और टटिया खोल दिये।

सियार को देखकर बच्चों की खुशी गायब हो गई। चारों उछल-उछल कर घर के और भीतर जाने लगे। सियार कूद कर उनके बीच आ गया और एक-एक करके पकड़ने लगा।

आले, बाले, छुन्नु, मुन्नु रोते रहे, मिमियाते रहे पर सियार ने चारों को खा लिया।

शाम होते ही बकरी भागी-भागी अपने घर पहुँची – उसने दूर से ही देखा कि टटिया खुली है। डर के मारे उसके पैर नहीं चल रहे थे। वह बच्चों को बुलाती हुई आगे बढ़ी – आले, बाले, छुन्नु, मुन्नु। पर ना आले आया ना बाले, न छुन्नु न मुन्नु।

बकरी घर के भीतर जाकर कुछ देर खूब रोई। उसके बाद वह उछलकर खड़ी हो गई। ध्यान से दखने लगी ज़मीन की ओर। ये तो सियार के पैरों के निशान हैं। तो सियार आया था। उसके पेट में मेरे आले, बाले, छुन्नु, मुन्नु हैं।

See also  Raja Ki Bhool : French Folk Tale

बकरी उसी वक्त बढ़ई के पास गई और बढ़ई से कहा – “मेरे सींग को पैना कर दो” –

“क्या बात है? किसको मारने के लिए सींग को पैने कर रहे हो” –

बकरी ने जब पूरी बात बताई, बढ़ई ने कहा – “तुम सियार से कैसे लड़ाई करोगी? सियार तुम्हें मार डालेगा। वह बहुत बलवान है” –

बकरी ने कहा, “तुम मेरे सींग को अच्छी तरह अगर पैने कर दोगे, मैं सियार को हरा दूँगी” –
बढ़ई ने बहुत अच्छे से बकरी के सींग पैने कर दिए।
बकरी अब एक तेली के पास पहुँची। तेली से बकरी ने कहा – “मेरे सीगों पर तेल लगा दो और उसे चिकना कर दो” –
तेली ने बकरी के सीगों को चिकना करते करते पूछा – “अपने सीगों को आज इतना चिकना क्यों कर रहे हो?”
बकरी ने जब पूरी कहानी सुनाई, तेली ने और तेल लगाकर उसके सीगों को और भी चिकना कर दिया।

अब बकरी तैयार थी। वह उसी वक्त चल पड़ी जंगल की ओर। जंगल में जाकर सियार को ढ़ूढ़ने लगी। कहाँ गया है सियार? जल्दी उसे ढ़ूड निकालना है। आले, बाले, छुन्नु, मुन्नु उसके पेट में बंद हैं। अंधेरे में न जाने नन्हें बच्चों को कितनी तकलीफ हो रही होगी।
बकरी दौड़ने लगी – पूरे जंगल में छान-बीन करने लगी।
बहुत ढूँढ़ने के बाद बकरी पहुँच गई सियार के पास। सियार का पेट इतना मोटा हो गया था, आले, बाले, छुन्नु, मुन्नु जो उसके भीतर थे।
बकरी ने कहा – “मेरे बच्चों को लौटा दो”, सियार ने कहा – “तेरे बच्चों को मैनें खा लिया है अब मैं तुझे खाऊँगा”।
बकरी ने कहा – मेरे सींगो को देखो। कितना चिकना है “तुम्हारा पेट फट जायेगा – जल्दी से बच्चे वापस करो”।
सियार ने कहा – “तू यहाँ मरने के लिये आई है”।
बकरी को बहुत गुस्सा आया। वह आगे बहुत तेजी से बढ़ी और सियार के पेट में अपने सींग घोंप दिए।
जैसे ही सियार का पेट फट गया, आले, बाले, छुन्नु, मुन्नु पेट से निकल आये। बकरी खुशी से अब चारों को लेकर घर लौट कर आई।
तब से आले, बाले, छुन्नु, मुन्नु टटिया तब तक नहीं खोलते जब तक बकरी दो बार तो कभी तीन बार दरवाजा खोलने के लिए न कहती।
रोज सुबह जाने से पहले बकरी उन चारों से फुसफुसाकर कहकर जाती कि वह कितने बार टटिया खोलने के लिए कहेगी।

See also  In The Uttermost Parts Of The Sea by Hans Christian Andersen

(डा. मृनालिका ओझा)

Leave a Reply 0

Your email address will not be published. Required fields are marked *