बुद्धिमान गधा

एक बार एक गधा जंगल में नर्म हरी घास खाने में मग्न था। इधर एक शेर शिकार के इरादे से धीरे-धीरे उसकी ओर बढ़ रहा था। गधा इस बात से अंजान था। शेर गधे के पास पहुँचा तो उसे देखकर गधा डर गया।

शेर बहुत ही खतरनाक और भयानक लग रहा था। लेकिन गधा भी कम चालाक न था। वह बोला,”महाराज, मुझे आपको देखकर बहुत खुशी हुई। मुझे आपका भोजन बनने में बड़ा गर्व होगा।

लेकिन उससे पहले मैं आपको गधे को सही तरीके से खाने की विधि बताता हूँ। कहते हैं कि गधे जाता है।” को पीछे के पैरों से खाना शुरू करना चाहिए। इससे उसे खाने का स्वाद बढ़ शेर ने उसकी बात पर विश्वास कर लिया।

फिर वह गधे को खाने के लिए उसके पीछे गया। जैसे ही शेर गधे के पीछे खड़ा हुआ, वैसे ही गधे ने शेर के मुँह पर बड़े जोर से लात मारी। फलस्वरूप शेर नीचे झाड़ियों में जा गिरा। जब तक शेर उठता, तब तक गधा वहाँ से दूर भाग चुका था।

See also  Kar Bhala Ho Bhala: Lok-Katha (Kerala)
Leave a Reply 0

Your email address will not be published. Required fields are marked *