आशी : (वसंत के एक दिन)

Anonymous Poems in Hindi – अज्ञेय रचना संचयन कविताएँ

फूल काँचनार के,
प्रतीक मेरे प्यार के!
प्रार्थना-सी अर्धस्फुट काँपती रहे कली,
पत्तियों का सम्पुट, निवेदिता ज्यों अंजली।
आए फिर दिन मनुहार के, दुलार के
-फूल काँचनार के!

सुमन-वृंत बावले बबूल के!
झोंके ऋतुराज के वसंती दुकूल के,

बूर बिखराता जा पराग अंगराग का,
दे जा स्पर्श ममता की सिहरती आग का।
आवे मत्त गंध वह ढीठ हूल-हूल के
-सुमन वृंत बावले बबूल के!

कली री पलास की!
टिमटिमाती ज्योति मेरी आस की
या कि शिखा ऊध्र्वमुखी मेरी दीप्त प्यास की।

वासना-सी मुखरा, वेदना-सी प्रखरा
दिगंत में, प्रांतर में, प्रांत में
खिल उठ, झूल जा, मस्त हो,
फैल जा वनांत में-
मार्ग मेरे प्रणय का प्रशस्त हो!

See also  रेगिस्तान की यात्रा
Leave a Reply 0

Your email address will not be published. Required fields are marked *